Kolaru Thiruppathigam mp3 Download

Kolaru Thiruppathigam is a Tamil hymn to Lord Shiva and was written by Thiru Gnana Sambandar. This powerful hymn should be recited daily in order to please the planets, especially if one is going through an astrologically bad time. The following mp3 version was sung by Mrs. Revathy Sankaran.

Lord Shiva

Kolaru Pathigam Tamil Lyrics

கோளறு திருப்பதிகம்பண் – பியந்தைக்காந்தாரம் 
திருச்சிற்றம்பலம்வேயுறு தோளிபங்கன் விடமுண்ட கண்டன் மிகநல்ல வீணை தடவி மாசறு திங்கள் கங்கை முடிமேலணிந்தென் உளமே புகுந்த அதனால் ஞாயிறு திங்கள்செவ்வாய் புதன்வியாழம் வெள்ளி சனிபாம்பி ரண்டு முடனே ஆசறு நல்லநல்ல அவைநல்ல நல்ல அடியா ரவர்க்கு மிகவே. 2.85.1 என்பொடு கொம்பொடாமை யிவைமார் பிலங்க எருதேறி யேழையுடனே பொன்பொதி மத்தமாலை புனல்சூடி வந்தென் உளமே புகுந்த அதனால் *ஒன்பதொ டொன்றொடேழு பதினெட்டொ டாறும் உடனாய நாள்க ளவைதாம் அன்பொடு நல்லநல்ல அவைநல்ல நல்ல அடியா ரவர்க்கு மிகவே. 2.85.2 உருவலர் பவளமேனி ஒளிநீ றணிந்து உமையோடும் வெள்ளை விடைமேல் முருகலர் கொன்றைதிங்கள் முடிமே லணிந்தென் உளமே புகுந்த அதனால் திருமகள் கலையதூர்தி செயமாது பூமி திசை தெய்வ மான பலவும் அருநெதி நல்லநல்ல அவைநல்ல நல்ல அடியா ரவர்க்கு மிகவே. 2.85.3 மதிநுதல் மங்கையோடு வடவாலி ருந்து மறையோதும் எங்கள் பரமன் நதியொடு கொன்றைமாலை முடிமே லணிந்தென் உளமே புகுந்த அதனால் கொதியுறு காலனங்கி நமனோடு தூதர் கொடுநோய்க ளான பலவும் அதிகுணம் நல்லநல்ல அவைநல்ல நல்ல அடியா ரவர்க்கு மிகவே. 2.85.4 நஞ்சணி கண்டன் எந்தை மடவாள் தனோடும் விடையேறு நங்கள் பரமன் துஞ்சிருள் வன்னிகொன்றை முடிமே லணிந்தென் உளமே புகுந்த அதனால் வெஞ்சின அவுணரோடும் உருமிடியும் மின்னும் மிகையான பூத மவையும் அஞ்சிடும் நல்லநல்ல அவைநல்ல நல்ல அடியா ரவர்க்கு மிகவே. 2.85.5 வாள்வரி யதளதாடை வரிகோ வணத்தர் மடவாள் தனோடு முடனாய் நாண்மலர் வன்னிகொன்றை நதிசூடி வந்தென் உளமே புகுந்த அதனால் கோளரி யுழுவையோடு கொலையானை கேழல் கொடுநாக மோடு கரடி ஆளரி நல்லநல்ல அவைநல்ல நல்ல அடியா ரவர்க்கு மிகவே. 2.85.6 செப்பிள முலைநன்மங்கை யொரு பாகமாக விடையேறு செல்வ னடைவார் ஒப்பிள மதியும்அப்பும் முடிமே லணிந்தென் உளமே புகுந்த அதனால் வெப்பொடு குளிரும்வாதம் மிகையான பித்தும் வினையான வந்து நலியா அப்படி நல்லநல்ல அவைநல்ல நல்ல அடியா ரவர்க்கு மிகவே. 2.85.7 வேள்பட விழிசெய்தன்று விடமே லிருந்து மடவாள் தனோடும் உடனாய் வாண்மதி வன்னிகொன்றை மலர்சூடி வந்தென் உளமே புகுந்த அதனால் ஏழ்கடல் சூழிலங்கை அரையன்ற னோடும் இடரான வந்து நலியா ஆழ்கடல் நல்லநல்ல அவைநல்ல நல்ல அடியா ரவர்க்கு மிகவே. 2.85.8 பலபல வேடமாகும் பரனாரி பாகன் பசுவேறும் எங்கள் பரமன் சலமக ளோடெருக்கும் முடிமே லணிந்தென் உளமே புகுந்த அதனால் மலர்மிசை யோனுமாலும் மறையோடு தேவர் வருகால மான பலவும் அலைகடல் மேருநல்ல அவைநல்ல நல்ல அடியா ரவர்க்கு மிகவே. 2.85.9 கொத்தலர் குழலியோடு விசயற்கு நல்கு குணமாய வேட விகிர்தன் மத்தமு மதியுநாகம் முடிமே லணிந்தென் உளமே புகுந்த அதனால் புத்தரொ டமணைவாதில் அழிவிக்கும் அண்ணல் திருநீறு செம்மை திடமே அத்தகு நல்லநல்ல அவைநல்ல நல்ல அடியா ரவர்க்கு மிகவே. 2.85.10 தேனமர் பொழில் கொளாலை விளைசெந்நெல்துன்னி வளர்செம்பொன் எங்கும் நிகழ நான்முகன் ஆதியாய பிரமா புரத்து மறைஞான ஞான முனிவன் தானுறு கோளும்நாளும் அடியாரை வந்து நலியாத வண்ணம் உரைசெய் ஆனசொல் மாலையோதும் அடியார்கள் வானில் அரசாள்வர் ஆணை நமதே. 2.85.11 – திருச்சிற்றம்பலம் –

Sathru Samhara Vel Pathigam mp3 Download

Sathru Samhara Vel Pathigam is a Murugan devotional song that is also a rare Tamil stotra. It is very powerful and can protect Murugan devotees from all harm. It sings the praise of Lord Murugan and his ever powerful Vel. The following mp3 was sung by Mrs Revathy Sankaran.

Lord Murugan with his Vel

Sri Bhuvaneswari Sahasranama mp3 Download

Sri Bhuvaneswari Sahasranama is addressed to Shakti or Goddess Parvati. This version is a very rare one and is sung by Mrs. Revathy Sankaran.

ஸ்ரீ புவனேச்வரி சஹஸ்ரநாமம் श्रीभुवनेश्वरीसहस्रनामस्तोत्रम्श्रीगणेशाय नमः ।ஸ்ரீ கணேசாய நம:श्रीदेव्युवाच – श्रीपार्वत्युवाच -ஸ்ரீ தேவி உவாச-देव देव महादेव सर्वशास्त्रविशारद ! ।தேவதேவ மஹாதேவ சர்வ சாஸ்த்ர விசாரத!कपालखट्वाङ्गधर ! चिताभस्मानुलेपन ! ॥ १॥கபாலகட்வாங்கதர ! சிதா பஸ்மானுலேபன !या आद्या प्रकृतिर्नित्या सर्वशास्त्रेषु गोपिता ।யாஆத்யா ப்ரக்ருதிர்நித்யா ஸர்வ சாஸ்த்ரேஷு கோபிதாतस्याः श्रीभुवनेश्वर्या नाम्नां पुण्यं सहस्रकम् ॥ २॥தஸ்யா: ஸ்ரீ புவனேச்வர்யா நாம்நாம் புண்யம் சஹஸ்ரகம்कथयस्व महादेव ! यथा देवी प्रसीदति கதயஸ்வ மஹாதேவ!யதா தேவீ ப்ரஸீததிईश्वर उवाच -ஈஸ்வர உவாச-साधु पृष्टं महादेवि ! साधकानां हिताय वै ॥ ३॥சாது ப்ருஷ்டம் மஹாதேவி! சாdhதகானாம் ஹிtதாயவைया आद्या प्रकृतिर्नित्या सर्वशास्त्रेषु गोपिता ।யா நித்யா ப்ரக்ருதிர்நித்யா ஸர்வ சாஸ்த்ரேஷு கோபிதாयस्याः स्मरणमात्रेण सर्वपापैः प्रमुच्यते ॥ ४॥யஸ்யா : ஸ்மாரணமாத்ரேண ஸர்வ பாபை: ப்ரமுச்யதே ||आराधनाद्भवेद्यस्या जीवन्मुक्तो न संशयः ।ஆராதனாத் பவேத்யஸ்யா ஜீவன் முக்தோ ந சம்சய: ||तस्या नामसहस्राणि कथयामि श्रुणुष्व तत्தஸ்யா நாமஸஹஸ்ராணி கதயாமி ச்ருணுஷ்வ ததுअस्य श्रीभुवनेश्वर्या सहस्रनामस्तोत्रस्यஅஸ்ய ஸ்ரீ புவனேச்வரி ஸஹஸ்ரநாம ஸ்தோத்ரஸ்யदक्षिणामूर्तिऋषिः,पङ्क्तिश्छन्दःआद्या श्रीभुवनेश्वरीदेवताதக்ஷிணாமூர்த்தி ரிஷி: பங்க்திஷ் சந்த: ஆத்யா ஸ்ரீ புவனேஸ்வரி தேவதாह्रीं बीजं, श्रीं शक्तिः, क्लीं कीलकं, मम श्रीधर्मार्थकाममोक्षार्थेजपे विनियोगः ।ஹ்ரீம் பீஜம் ஸ்ரீம் சக்தி: க்லீம் கீலகம் மம தர்மார்த்த காம மோக்ஷார்த்தே ஜபே வினியோக:,आद्या माया परा शक्तिः श्रीं ह्रीं क्लीं भुवनेश्वरी ।ஆத்யா மாயா பராசக்தி: ஸ்ரீம் ஹ்ரீம் க்லீம் புவனேச்வரிभुवना भावना भव्या भवानी भवभाविनी ॥ ६॥புவனா பாவனா பவ்யா பவானி பவ பாவினி ||रुद्राणी रुद्रभक्ता च तथा रुद्रप्रिया सती ।ருத்ராணி ருத்ர பக்தா ச ததா ருத்ரபிரியா ஸதீउमा कात्यायनी दुर्गा मङ्गला सर्वमङ्गला ॥ ७॥உமா காத்யாயினி துர்கா மங்களா சர்வ மங்களா ||त्रिपुरा परमेशानी त्रिपुरा सुन्दरी प्रिया ।த்ருபுரா பரமேசானி த்ரிபுரா சுந்தரீ ப்ரியாरमणा रमणी रामा रामकार्यकरी शुभा ॥ ८॥ரமணா ரமணீ ராமா ராமகார்ய கரீ சுபா ||||ब्राह्मी नारायणी चण्डी चामुण्डा मुण्डनायिका ।ப்ராஹ்மீ நாராயணீ சண்டீ சாமுண்டா முண்ட நாயிகாमाहेश्वरी च कौमारी वाराही चापराजिता ॥ ९॥மாஹேச்வரீ ச கௌமாரீ வாராஹி சாபராஜிதாमहामाया मुक्तकेशी महात्रिपुरसुन्दरी ।மஹாமாயா முக்தகேசீ மஹாத்ரிபுர சுந்தரீसुन्दरी शोभना रक्ता रक्तवस्त्रापिधायिनी ॥ १०॥ஸுந்தரீசோபனா ரக்தா ரக்த வஸ்த்ராபிதாயினீरक्ताक्षी रक्तवस्त्रा च रक्तबीजातिसुन्दरी ।ரக்தாக்ஷீ ரக்தவஸ்த்ரா ச ரக்த பீஜாதிஸுந்தரீरक्तचन्दनसिक्ताङ्गी रक्तपुष्पसदाप्रिया ॥ ११॥ரக்த சந்தன ஸிக்தாங்கீ ரக்த புஷ்பஸதாப்ரியாकमला कामिनी कान्ता कामदेवसदाप्रिया ।கமலா காமினீ காந்தா காமதேவ ஸதாப்ரியாलक्ष्मी लोला चञ्चलाक्षी चञ्चला चपला प्रिया ॥ १२॥லக்ஷ்மீ லோலா சஞ்சலாக்ஷீ சஞ்சலா சபலாப்ரியா||12||भैरवी भयहर्त्री च महाभयविनाशिनी ।பைரவீ பயஹந்த்ரீ ச மஹாபய வினாசினீभयङ्करी महाभीमा भयहा भयनाशिनी ॥ १३॥பயங்கரீ மஹாபீமா பயஹா பயஹாரிணீ }} 13|\श्मशाने प्रान्तरे दुर्गे संस्मृता भयनाशिनी ।ஸ்மசானே ப்ராந்தரே துர்கே ஸம்ஸ்ம்ருதா பய நாசினீजया च विजया चैव जयपूर्णा जयप्रदा ॥ १४॥ஜயா ச விஜயா சைவ ஜயபூர்ணா ஜயப்ரதா ||14||यमुना यामुना याम्या यामुनजा यमप्रिया ।யமுனா யாமுனா யாம்யா யாமுனஜா யமப்ரியாसर्वेषां जनिका जन्या जनहा जनवर्धिनी ॥ १५॥ஸர்வேஷாம் ஜானிகா ஜன்யா ஜன்ஹா ஜனவர்த்தினீ||15||काली कपालिनी कुल्ला कालिका कालरात्रिका ।காலீ கபாலினீ குல்லா காலிகா கால ராத்ரிகாमहाकालहृदिस्था च कालभैरवरूपिणी ॥ १६॥மஹாகால ஹ்ருதிஸ்தா ச காலபைரவ ரூபிணீ||16||कपालखट्वाङ्गधरा पाशाङ्कुशविधारिणी ।கபால கட்வாங்கதரா பாசாங்குச விதாரிணீअभया च भया चैव तथा च भयनाशिनी ॥ १७॥அபயா ச பயாசைவ ததா ச பயநாசினீ ||17||महाभयप्रदात्री च तथा च वरहस्तिनी ।மஹாபய ப்ரதாத்ரீ ச ததா ச வரஹஸ்தினீगौरी गौराङ्गिनी गौरा गौरवर्णा जयप्रदा ॥ १८॥கௌரீ கௌராங்கினீ கௌரா கௌரவர்ணா ஜயப்ரதா||18||उग्रा उग्रप्रभा शान्तिः शान्तिदाऽशान्तिनाशिनी ।உக்ரா உக்ரப்ரபா சாந்தி:சாந்திதா அசாந்தி நாசினீउग्रतारा तथा चोग्रा नीला चैकजटा तथा ॥ १९॥உக்ரதாரா ததா சோக்ரா நீலா சைகஜடா ததா||19||हां हां हूं हूं तथा तारा तथा च सिद्धिकालिका ।ஹாஹாஹுஹூ ததா தாரா ததா ச ஸித்திகாலிகாतारा नीला च वागीशी तथा नीलसरस्वती ॥ २०॥தாரா நீலா ச வாகீசீ ததா நீல ஸரஸ்வதீ||20||गङ्गा काशी सती सत्या सर्वतीर्थमयी तथा ।க³ங்கா³ காசீ ஸதீ ஸத்யா ஸர்வதீர்த²மயீ ததா² ।पुण्यदा पुण्यरूपा च पुण्यकीर्तिप्रकाशिनी ।புண்யதா³ புண்யரூபா ச புண்யகீர்திப்ரகாசிநீ ।तीर्थरूपा तीर्थपुण्या तीर्थदा तीर्थसेविका ॥ २१॥தீர்த்த²ரூபா தீர்த்த²புண்யா தீர்த²தா³ தீர்த²ஸேவிகா ॥ 21॥पुण्यकाला पुण्यसंस्था तथा पुण्यजनप्रिया ॥ २२॥புண்யகாலா புண்யஸம்ஸ்தா² ததா² புண்யஜநப்ரியா ॥ 22॥तुलसी तोतुलास्तोत्रा राधिका राधनप्रिया ।துளஸீ தோதுலாஸ்தோத்ரா ராதி⁴கா ராத⁴நப்ரியா ।सत्यासत्या सत्यभामा रुक्मिणी कृष्णवल्लभा ॥ २३॥ஸத்யாஸத்யா ஸத்யபா⁴மா ருக்மிணீ க்ருʼஷ்ணவல்லபா⁴ ॥ 23॥देवकी कृष्णमाता च सुभद्रा भद्ररूपिणी ।தே³வகீ க்ருʼஷ்ணமாதா ச ஸுப⁴த்³ரா ப⁴த்³ரரூபிணீ ।मनोहरा तथा सौम्या श्यामाङ्गी समदर्शना ॥ २४॥மநோஹரா ததா² ஸௌம்யா ச்யாமாங்கீ³ ஸமத³ர்சநா ॥ 24॥घोररूपा घोरतेजा घोरवत्प्रियदर्शना ।கோ⁴ரரூபா கோ⁴ரதேஜா கோ⁴ரவத்ப்ரியத³ர்சநா ।कुमारी बालिका क्षुद्रा कुमारीरूपधारिणी ॥ २५॥குமாரீ பா³லிகா க்ஷுத்³ரா குமாரீரூபதா⁴ரிணீ ॥ 25॥युवती युवतीरूपा युवतीरसरञ्जका ।யுவதீ யுவதீரூபா யுவதீரஸரஞ்ஜகா ।पीनस्तनी क्षूद्रमध्या प्रौढा मध्या जरातुरा ॥ २६॥பீநஸ்தநீ க்ஷூத்³ரமத்⁴யா ப்ரௌடா⁴ மத்⁴யா ஜராதுரா ॥ 26॥अतिवृद्धा स्थाणुरूपा चलाङ्गी चञ्चला चला ।அதிவ்ருத்³தா⁴ ஸ்தா²ணுரூபா சலாங்கீ³ சஞ்சலா சலா ।देवमाता देवरूपा देवकार्यकरी शुभा ॥ २७॥தே³வமாதா தே³வரூபா தே³வகார்யகரீ சுபா⁴ ॥ 27॥देवमाता दितिर्दक्षा सर्वमाता सनातनी ।தே³வமாதா தி³திர்த³க்ஷா ஸர்வமாதா ஸநாதநீ ।पानप्रिया पायनी च पालना पालनप्रिया ॥ २८॥பாநப்ரியா பாயநீ ச பாலநா பாலநப்ரியா ॥ 28॥मत्स्याशी मांसभक्ष्या च सुधाशी जनवल्लभा ।மத்ஸ்யாசீ மாம்ஸப⁴க்ஷ்யா ச ஸுதா⁴சீ ஜநவல்லபா⁴ ।तपस्विनी तपी तप्या तपःसिद्धिप्रदायिनी ॥ २९॥தபஸ்விநீ தபீ தப்யா தப:ஸித்³தி⁴ப்ரதா³யிநீ ॥ 29॥हविष्या च हविर्भोक्त्री हव्यकव्यनिवासिनी ।ஹவிஷ்யா ச ஹவிர்போ⁴க்த்ரீ ஹவ்யகவ்யநிவாஸிநீ ।यजुर्वेदा वश्यकरी यज्ञाङ्गी यज्ञवल्लभा ॥ ३०॥யஜுர்வேதா³ வச்யகரீ யஜ்ஞாங்கீ³ யஜ்ஞவல்லபா⁴ ॥ 30॥दक्षा दाक्षायिणी दुर्गा दक्षयज्ञविनाशिनी ।த³க்ஷா தா³க்ஷாயிணீ து³ர்கா³ த³க்ஷயஜ்ஞவிநாசிநீ ।पार्वती पर्वतप्रीता तथा पर्वतवासिनी ॥ ३१॥பார்வதீ பர்வதப்ரீதா ததா² பர்வதவாஸிநீ ॥ 31॥हैमी हर्म्या हेमरूपा मेना मान्या मनोरमा ।ஹைமீ ஹர்ம்யா ஹேமரூபா மேநா மாந்யா மநோரமா ।कैलासवासिनी मुक्ता शर्वक्रीडाविलासिनी ॥ ३२॥கைலாஸவாஸிநீ முக்தா சர்வக்ரீடா³விலாஸிநீ ॥ 32॥चार्वङ्गी चारुरूपा च सुवक्त्रा च शुभानना ।சார்வங்கீ³ சாருரூபா ச ஸுவக்த்ரா ச சுபா⁴நநா ।चलत्कुण्डलगण्डश्रीर्लसत्कुण्डलधारिणी ॥ ३३॥சலத்குண்ட³லக³ண்டஸ்ரீர் லஸத்குண்ட³லதா⁴ரிணீ ॥ 33॥महासिंहासनस्था च हेमभूषणभूषिता ।மஹாஸிம்ஹாஸநஸ்தா² ச ஹேமபூ⁴ஷணபூ⁴ஷிதா ।हेमाङ्गदा हेमभूषा च सूर्यकोटिसमप्रभा ॥ ३४॥ஹேமாங்க³தா³ ஹேமபூ⁴ஷா ச ஸூர்யகோடிஸமப்ரபா⁴ ॥ 34॥बालादित्यसमाकान्तिः सिन्दूरार्चितविग्रहा ।பா³லாதி³த்யஸமாகாந்தி: ஸிந்தூ³ரார்சிதவிக்³ரஹா ।यवा यावकरूपा च रक्तचन्दनरूपधृक् ॥ ३५॥யவா யாவகரூபா ச ரக்தசந்த³நரூபத்⁴ருʼக் ॥ 35॥कोटरी कोटराक्षी च निर्लज्जा च दिगम्बरा ।கோடரீ கோடராக்ஷீ ச நிர்லஜ்ஜா ச தி³க³ம்ப³ரா ।पूतना बालमाता च शून्यालयनिवासिनी ॥ ३६॥பூதநா பா³லமாதா ச சூந்யாலயநிவாஸிநீ ॥ 36॥श्मशानवासिनी शून्या हृद्या चतुरवासिनी ।ச்மசானநவாஸிநீ சூந்யா ஹ்ருத்³யா சதுரவாஸிநீ ।मधुकैटभहन्त्री च महिषासुरघातिनी ॥ ३७॥மது⁴கைடப⁴ஹந்த்ரீ ச மஹிஷாஸுரகா⁴திநீ ॥ 37॥निशुम्भशुम्भमथनी चण्डमुण्डविनाशिनी ।நிசும்ப⁴சும்ப⁴மத²நீ சண்ட³முண்ட³விநாசிநீ ।शिवाख्या शिवरूपा च शिवदूती शिवप्रिया ॥ ३८॥சிவாக்²யா சிவரூபா ச சிவதூ³தீ சிவப்ரியா ॥ 38॥शिवदा शिववक्षःस्था शर्वाणी शिवकारिणी ।சிவதா³ சிவவக்ஷ: ஸ்தா² சர்வாணீ சிவகாரிணீ ।इन्द्राणी चेन्द्रकन्या च राजकन्या सुरप्रिया ॥ ३९॥இந்த்³ராணீ சேந்த்³ரகந்யா ச ராஜகந்யா ஸுரப்ரியா ॥ 39॥लज्जाशीला साधुशीला कुलस्त्री कुलभूषिका ।லஜ்ஜாசீலா ஸாது⁴சீலா குலஸ்த்ரீ குலபூ⁴ஷிகா ।महाकुलीना निष्कामा निर्लज्जा कुलभूषणा ॥ ४०॥மஹாகுலீநா நிஷ்காமா நிர்லஜ்ஜா குலபூ⁴ஷணா ॥ 40॥कुलीना कुलकन्या च तथा च कुलभूषिता ।குலீநா குலகந்யா ச ததா² ச குலபூ⁴ஷிதா ।अनन्तानन्तरूपा च अनन्तासुरनाशिनी ॥ ४१॥அநந்தாநந்தரூபா ச அநந்தாஸுரநாசிநீ ॥ 41॥हसन्ती शिवसङ्गेन वाञ्छितानन्ददायिनी ।ஹஸந்தீ சிவஸங்கே³ந வாஞ்சி²தாநந்த³தா³யிநீ ।नागाङ्गी नागभूषा च नागहारविधारिणी ॥ ४२॥நாகா³ங்கீ³ நாக³பூ⁴ஷா ச நாக³ஹாரவிதா⁴ரிணீ ॥ 42॥धरिणी धारिणी धन्या महासिद्धिप्रदायिनी ।த⁴ரிணீ தா⁴ரிணீ த⁴ந்யா மஹாஸித்³தி⁴ப்ரதா³யிநீ ।डाकिनी शाकिनी चैव राकिनी हाकिनी तथा ॥ ४३॥டா³கிநீ சாகிநீ சைவ ராகிநீ ஹாகிநீ ததா² ॥ 43॥भूता प्रेता पिशाची च यक्षिणी धनदार्चिता ।பூ⁴தா ப்ரேதா பிசாசீ ச யக்ஷிணீ த⁴நதா³ர்சிதா ।धृतिः कीर्तिः स्मृतिर्मेधा तुष्टिःपुष्टिरुमा रुषा ॥ ४४॥த்⁴ருதி: கீர்தி: ஸ்ம்ருதிர்மேதா⁴ துஷ்டி:புஷ்டிருமா ருஷா ॥ 44॥शाङ्करी शाम्भवी मीना रतिः प्रीतिः स्मरातुरा ।சாங்கரீ சாம்ப⁴வீ மீனா ரதி: ப்ரீதி: ஸ்மராதுரா ।अनङ्गमदना देवी अनङ्गमदनातुरा ॥ ४५॥அநங்க³மத³நா தே³வீ அநங்க³மத³நாதுரா ॥ 45॥भुवनेशी महामाया तथा भुवनपालिनी ।பு⁴வநேசீ மஹாமாயா ததா² பு⁴வநபாலிநீ ।ईश्वरी चेश्वरीप्रीता चन्द्रशेखरभूषणा ॥ ४६॥ஈச்வரீ சேச்வரீப்ரீதா சந்த்³ரசேக²ரபூ⁴ஷணா ॥ 46॥चित्तानन्दकरी देवी चित्तसंस्था जनस्य च ।சிதாநந்த³கரீ தே³வீ சித்தஸம்ஸ்தா² ஜநஸ்ய ச ।अरूपा बहुरूपा च सर्वरूपा चिदात्मिका ॥ ४७॥அரூபா ப³ஹுரூபா ச ஸர்வரூபா சிதா³த்மிகா ॥ 47॥अनन्तरूपिणी नित्या तथानन्तप्रदायिनी ।அநந்தரூபிணீ நித்யா ததா²நந்தப்ரதா³யிநீ ।नन्दा चानन्दरूपा च तथाऽनन्दप्रकाशिनी ॥ ४८॥நந்தா³ சாநந்த³ரூபா ச ததா²ঽநந்த³ப்ரகாசிநீ ॥ 48॥सदानन्दा सदानित्या साधकानन्ददायिनी ।ஸதா³நந்தா³ ஸதா³நித்யா ஸாத⁴காநந்த³தா³யிநீ ।वनिता तरुणी भव्या भविका च विभाविनी ॥ ४९॥வநிதா தருணீ ப⁴வ்யா ப⁴விகா ச விபா⁴விநீ ॥ 49॥चन्द्रसूर्यसमा दीप्ता सूर्यवत्परिपालिनी ।சந்த்³ரஸூர்யஸமா தீ³ப்தா ஸூர்யவத்பரிபாலிநீ ।नारसिंही हयग्रीवा हिरण्याक्षविनाशिनी ॥ ५०॥நாரஸிம்ஹீ ஹயக்³ரீவா ஹிரண்யாக்ஷவிநாசிநீ ॥ 50॥वैष्णवी विष्णुभक्ता च शालग्रामनिवासिनी ।வைஷ்ணவீ விஷ்ணுப⁴க்தா ச சாலக்³ராமநிவாஸிநீ ।चतुर्भुजा चाष्टभुजा सहस्रभुजसंज्ञिता ॥ ५१॥சதுர்பு⁴ஜா சாஷ்டபு⁴ஜா ஸஹஸ்ரபு⁴ஜஸம்ஞிதா ॥ 51॥आद्या कात्यायनी नित्या सर्वाद्या सर्वदायिनी ।ஆத்³யா காத்யாயநீ நித்யா ஸர்வாத்³யா ஸர்வதா³யிநீ ।सर्वचन्द्रमयी देवी सर्ववेदमयी शुभा ॥ ५२॥ஸர்வசந்த்³ரமயீ தே³வீ ஸர்வவேத³மயீ சுபா⁴ ॥ 52॥सर्वदेवमयी देवी सर्वलोकमयी पुरा ।ஸர்வதே³வமயீ தே³வீ ஸர்வலோகமயீ புரா ।सर्वसम्मोहिनी देवी सर्वलोकवशङ्करी ॥ ५३॥ஸர்வஸம்மோஹிநீ தே³வீ ஸர்வலோகவஶங்கரீ ॥ 53॥राजिनी रञ्जिनी रागा देहलावण्यरञ्जिता ।ராஜிநீ ரஞ்ஜிநீ ராகா³ தே³ஹலாவண்யரஞ்ஜிதா ।नटी नटप्रिया धूर्ता तथा धूर्तजनार्दिनी ॥ ५४॥நடீ நடப்ரியா தூ⁴ர்த்தா ததா² தூ⁴ர்த்தஜநார்தி³நீ ॥ 54॥महामाया महामोहा महासत्त्वविमोहिता ।மஹாமாயா மஹாமோஹா மஹாஸத்வவிமோஹிதா ।बलिप्रिया मांसरुचिर्मधुमांसप्रिया सदा ॥ ५५॥ப³லிப்ரியா மாம்ஸருசிர்மது⁴மாம்ஸப்ரியா ஸதா³ ॥ 55॥मधुमत्ता माधविका मधुमाधवरूपिका ।மது⁴மத்தா மாத⁴விகா மது⁴மாத⁴வரூபிகா ।दिवामयी रात्रिमयी सन्ध्या सन्धिस्वरूपिणी ॥ ५६॥தி³வாமயீ ராத்ரிமயீ ஸந்த்⁴யா ஸந்தி⁴ஸ்வரூபிணீ ॥ 56॥कालरूपा सूक्ष्मरूपा सूक्ष्मिणी चातिसूक्ष्मिणी ।காலரூபா ஸூக்ஷ்மரூபா ஸூக்ஷ்மிணீ சாதிஸூக்ஷ்மிணீ ।तिथिरूपा वाररूपा तथा नक्षत्ररूपिणी ॥ ५७॥திதி²ரூபா வாரரூபா ததா² நக்ஷத்ரரூபிணீ ॥ 57॥सर्वभूतमयी देवी पञ्चभूतनिवासिनी ।ஸர்வபூ⁴தமயீ தே³வீ பஞ்சபூ⁴தநிவாஸிநீ ।शून्याकारा शून्यरूपा शून्यसंस्था च स्तम्भिनी ॥ ५८॥சூந்யாகாரா சூந்யரூபா சூந்யஸம்ஸ்தா² ச ஸ்தம்பி⁴நீ ॥ 58॥आकाशगामिनी देवी ज्योतिश्चक्रनिवासिनी ।ஆகாசகா³மிநீ தே³வீ ஜ்யோதிஸ்சக்ரநிவாஸிநீ ।ग्रहाणां स्थितिरूपा च रुद्राणी चक्रसम्भवा ॥ ५९॥க்³ரஹாணாம் ஸ்தி²திரூபா ச ருத்³ராணீ சக்ரஸம்ப⁴வா ॥ 59॥ऋषीणां ब्रह्मपुत्राणां तपःसिद्धिप्रदायिनी ।ருஷீணாம் ப்³ரஹ்மபுத்ராணாம் தப:ஸித்³தி⁴ப்ரதா³யிநீ ।अरुन्धती च गायत्री सावित्री सत्त्वरूपिणी ॥ ६०॥அருந்த⁴தீ ச கா³யத்ரீ ஸாவித்ரீ ஸத்த்வரூபிணீ ॥ 60॥चितासंस्था चितारूपा चित्तसिद्धिप्रदायिनी ।சிதாஸம்ஸ்தா² சிதாரூபா சித்தஸித்³தி⁴ப்ரதா³யிநீ ।शवस्था शवरूपा च शवशत्रुनिवासिनी ॥ ६१॥சவஸ்தா² சவரூபா ச சவசத்ருநிவாஸிநீ ॥ 61॥योगिनी योगरूपा च योगिनां मलहारिणी ।யோகி³நீ யோக³ரூபா ச யோகி³நாம் மலஹாரிணீ ।सुप्रसन्ना महादेवी यामुनी मुक्तिदायिनी ॥ ६२॥ஸுப்ரஸந்நா மஹாதே³வீ யாமுநீ முக்திதா³யிநீ ॥ 62॥निर्मला विमला शुद्धा शुद्धसत्वा जयप्रदा ।நிர்மலா விமலா சுத்³தா⁴ சுத்³த⁴ஸத்வா ஜயப்ரதா³ ।महाविद्या महामाया मोहिनी विश्वमोहिनी ॥ ६३॥மஹாவித்³யா மஹாமாயா மோஹிநீ விச்வமோஹிநீ ॥ 63॥कार्यसिद्धिकरी देवी सर्वकार्यनिवासिनी ।கார்யஸித்³தி⁴கரீ தே³வீ ஸர்வகார்யநிவாஸிநீ ।कार्यकार्यकरी रौद्री महाप्रलयकारिणी ॥ ६४॥கார்யகார்யகரீ ரௌத்³ரீ மஹாப்ரலயகாரிணீ ॥ 64॥स्त्रीपुंभेदाह्यभेद्या च भेदिनी भेदनाशिनी ।ஸ்த்ரீபும்பே⁴தா³ஹ்ய பே⁴த்³யா ச பே⁴தி³நீ பே⁴த³நாசிநீ ।सर्वरूपा सर्वमयी अद्वैतानन्दरूपिणी ॥ ६५॥ஸர்வரூபா ஸர்வமயீ அத்³வைதாநந்த³ரூபிணீ ॥ 65॥प्रचण्डा चण्डिका चण्डा चण्डासुरविनाशिनी ।ப்ரசண்டா³ சண்டி³கா சண்டா³ சண்டா³ஸுரவிநாசிநீ ।सुमस्ता बहुमस्ता च छिन्नमस्ताऽसुनाशिनी ॥ ६६॥ஸுமஸ்தா ப³ஹுமஸ்தா ச சி²ந்நமஸ்தாஅஸுநாசிநீ ॥ 66॥अरूपा च विरूपा च चित्ररूपा चिदात्मिका ।அரூபா ச விரூபா ச சித்ரரூபா சிதா³த்மிகா ।बहुशस्त्रा अशस्त्रा च सर्वशस्त्रप्रहारिणी ॥ ६७॥ப³ஹுசஸ்த்ரா அசஸ்த்ரா ச ஸர்வசஸ்த்ரப்ரஹாரிணீ ॥ 67॥शास्त्रार्था शास्त्रवादा च नाना शास्त्रार्थवादिनी ।சாஸ்த்ரார்த்தா² சாஸ்த்ரவாதா³ ச நாநா சாஸ்த்ரார்த்த²வாதி³நீ ।काव्यशास्त्रप्रमोदा च काव्यालङ्कारवासिनी ॥ ६८॥காவ்யசாஸ்த்ரப்ரமோதா³ ச காவ்யாலங்காரவாஸிநீ ॥ 68॥रसज्ञा रसना जिह्वा रसामोदा रसप्रिया ।ரஸஜ்ஞா ரஸநா ஜிஹ்வா ரஸாமோதா³ ரஸப்ரியா ।नानाकौतुकसंयुक्ता नानारसविलासिनी ॥ ६९॥நாநாகௌதுகஸம்யுக்தா நாநாரஸவிலாஸிநீ ॥ 69॥अरूपा च स्वरूपा च विरूपा च सुरूपिणी ।அரூபா ச ஸ்வரூபா ச விரூபா ச ஸுரூபிணீ ।रूपावस्या तथा जीवा वेश्याद्या वेशधारिणी ॥ ७०॥ரூபாவஸ்யா ததா² ஜீவா வேசயாத்³யா வேசதா⁴ரிணீ ॥ 70॥नानावेशधरा देवी नानावेशेषु संस्थिता ।நாநாவேசத⁴ரா தே³வீ நாநாவேசேஷு ஸம்ஸ்தி²தா ।कुरूपा कुटिला कृष्णा कृष्णारूपा च कालिका ॥ ७१॥குரூபா குடிலா க்ருʼஷ்ணா க்ருʼஷ்ணாரூபா ச காலிகா ॥ 71॥லக்ஷ்மீப்ரதா³ மஹாலக்ஷ்மீ: ஸர்வலக்ஷணஸம்யுதா ।लक्ष्मीप्रदा महालक्ष्मीः सर्वलक्षणसंयुता ।குபே³ரக்³ருʼஹஸம்ஸ்தா² ச த⁴நரூபா த⁴நப்ரதா³ ॥ 72॥कुबेरगृहसंस्था च धनरूपा धनप्रदा ॥ ७२||नानारत्नप्रदा देवी रत्नखण्डेषु संस्थिता ।நாநாரத்நப்ரதா³ தே³வீ ரத்நக²ண்டே³ஷு ஸம்ஸ்தி²தா ।वर्णसंस्था वर्णरूपा सर्ववर्णमयी सदा ॥ ७३॥வர்ணஸம்ஸ்தா² வர்ணரூபா ஸர்வவர்ணமயீ ஸதா³ ॥ 73॥ओङ्काररूपिणी वाच्या आदित्यज्योतीरूपिणी ।ஓங்காரரூபிணீ வாச்யா ஆதி³த்யஜ்யோதீரூபிணீ ।संसारमोचिनी देवी सङ्ग्रामे जयदायिनी ॥ ७४॥ஸம்ஸாரமோசிநீ தே³வீ ஸங்க்³ராமே ஜயதா³யிநீ ॥ 74॥जयरूपा जयाख्या च जयिनी जयदायिनी ।ஜயரூபா ஜயாக்²யா ச ஜயிநீ ஜயதா³யிநீ ।मानिनी मानरूपा च मानभङ्गप्रणाशिनी ॥ ७५॥மாநிநீ மாநரூபா ச மாநப⁴ங்க³ப்ரணாசிநீ ॥ 75॥मान्या मानप्रिया मेधा मानिनी मानदायिनी ।மாந்யா மாநப்ரியா மேதா⁴ மாநிநீ மாநதா³யிநீ ।साधकासाधकासाध्या साधिका साधनप्रिया ॥ ७६॥ஸாத⁴காஸாத⁴காஸாத்⁴யா ஸாதி⁴கா ஸாத⁴நப்ரியா ॥ 76॥स्थावरा जङ्गमा प्रोक्ता चपला चपलप्रिया ।ஸ்தா²வரா ஜங்க³மா ப்ரோக்தா சபலா சபலப்ரியா ।ऋद्धिदा ऋद्धिरूपा च सिद्धिदा सिद्धिदायिनी ॥ ७७॥ருʼத்³தி⁴தா³ ருʼத்³தி⁴ரூபா ச ஸித்³தி⁴தா³ ஸித்³தி⁴தா³யிநீ ॥ 77॥क्षेमङ्करी शङ्करी च सर्वसम्मोहकारिणी ।க்ஷேமங்கரீ சங்கரீ ச ஸர்வஸம்மோஹகாரிணீ ।रञ्जिता रञ्जिनी या च सर्ववाञ्छाप्रदायिनी ॥ ७८॥ரஞ்ஜிதா ரஞ்ஜிநீ யா ச ஸர்வவாஞ்சா²ப்ரதா³யிநீ ॥ 78॥भगलिङ्गप्रमोदा च भगलिङ्गनिवासिनी ।ப⁴க³லிங்க³ப்ரமோதா³ ச ப⁴க³லிங்க³நிவாஸிநீ ।भगरूपा भगाभाग्या लिङ्गरूपा च लिङ्गिनी ॥ ७९॥ப⁴க³ரூபா ப⁴கா³பா⁴க்³யா லிங்க³ரூபா ச லிங்கி³நீ ॥ 79॥भगगीतिर्महाप्रीतिर्लिङ्गगीतिर्महासुखा ।ப⁴க³கீ³திர்மஹாப்ரீதிர்லிங்க³கீ³திர்மஹாஸுகா² ।स्वयम्भूः कुसुमाराध्या स्वयम्भूः कुसुमाकुला ॥ ८०॥ஸ்வயம்பூ:⁴ குஸுமாராத்⁴யா ஸ்வயம்பூ:⁴ குஸுமாகுலா ॥ 80॥स्वयम्भूः पुष्परूपा च स्वयम्भूः कुसुमप्रिया ।ஸ்வயம்பூ:⁴ புஷ்பரூபா ச ஸ்வயம்பூ:⁴ குஸுமப்ரியா ।शुक्रकूपा महाकूपा शुक्रासवनिवासिनी ॥ ८१॥சுக்ரகூபா மஹாகூபா சுக்ராஸவநிவாஸிநீ ॥ 81॥शुक्रस्था शुक्रिणी शुक्रा शुक्रपूजकपूजिता ।சுக்ரஸ்தா² சுக்ரிணீ சுக்ரா சுக்ரபூஜகபூஜிதா ।कामाक्षा कामरूपा च योगिनी पीठवासिनी ॥ ८२॥காமாக்ஷா காமரூபா ச யோகி³நீ பீட²வாஸிநீ ॥ 82॥सर्वपीठमयी देवी पीठपूजानिवासिनी ।ஸர்வபீட²மயீ தே³வீ பீட²பூஜாநிவாஸிநீ ।अक्षमालाधरा देवी पानपात्रविधारिणी ॥ ८३॥அக்ஷமாலாத⁴ரா தே³வீ பாநபாத்ரவிதா⁴ரிணீ ॥ 83॥शूलिनी शूलहस्ता च पाशिनी पाशरूपिणी ।சூலிநீ சூலஹஸ்தா ச பாசிநீ பாசரூபிணீ ।கखड्गिनी गदिनी चैव तथा सर्वास्त्रधारिणी ॥ ८४॥²ட்³கி³நீ க³தி³நீ சைவ ததா² ஸர்வாஸ்த்ரதா⁴ரிணீ ॥ 84॥भाव्या भव्या भवानी सा भवमुक्तिप्रदायिनी ।பா⁴வ்யா ப⁴வ்யா ப⁴வாநீ ஸா ப⁴வமுக்திப்ரதா³யிநீ ।चतुरा चतुरप्रीता चतुराननपूजिता ॥ ८५॥சதுரா சதுரப்ரீதா சதுராநநபூஜிதா ॥ 85॥देवस्तव्या देवपूज्या सर्वपूज्या सुरेश्वरी ।தே³வஸ்தவ்யா தே³வபூஜ்யா ஸர்வபூஜ்யா ஸுரேச்வரீ ।जननी जनरूपा च जनानां चित्तहारिणी ॥ ८६॥ஜநநீ ஜநரூபா ச ஜநாநாம் சித்தஹாரிணீ ॥ 86॥जटिला केशबद्धा च सुकेशी केशबद्धिकाஜடிலா கேசப³த்³தா⁴ ச ஸுகேசீ கேசப³த்³தி⁴கா ।अहिंसा द्वेषिका द्वेष्या सर्वद्वेषविनाशिनी ॥ ८७॥அஹிம்ஸா த்³வேஷிகா த்³வேஷ்யா ஸர்வத்³வேஷவிநாசிநீ ॥ 87॥उच्चाटिनी द्वेषिनी च मोहिनी मधुराक्षरा ।உச்சாடிநீ த்³வேஷிநீ ச மோஹிநீ மது⁴ராக்ஷரா ।क्रीडा क्रीडकलेखाङ्ककारणाकारकारिका ॥ ८८॥க்ரீடா³ க்ரீட³கலேகா²ங்ககாரணாகாரகாரிகா ॥ 88॥सर्वज्ञा सर्वकार्या च सर्वभक्षा सुरारिहा ।ஸர்வஜ்ஞா ஸர்வகார்யா ச ஸர்வப⁴க்ஷா ஸுராரிஹா ।सर्वरूपा सर्वशान्ता सर्वेषां प्राणरूपिणी ॥ ८९॥ஸர்வரூபா ஸர்வசாந்தா ஸர்வேஷாம் ப்ராணரூபிணீ ॥ 89॥सृष्टिस्थितिकरी देवी तथा प्रलयकारिणी ।ஸ்ருʼஷ்டிஸ்தி²திகரீ தே³வீ ததா² ப்ரலயகாரிணீ ।मुग्धा साध्वी तथा रौद्री नानामूर्तिविधारिणी ॥ ९०॥முக்³தா⁴ ஸாத்⁴வீ ததா² ரௌத்³ரீ நாநாமூர்திவிதா⁴ரிணீ ॥ 90॥उक्तानि यानि देवेशि अनुक्तानि महेश्वरि ।உக்தாநி யாநி தே³வேசீ அநுக்தாநி மஹேச்வரி ।यत् किञ्चिद् दृश्यते देवि तत् सर्वं भुवनेश्वरी ॥ ९१॥யத் கிஞ்சித்³ த்³ருச்யதே தே³வி தத் ஸர்வம் பு⁴வநேச்வரீ ॥ 91॥इति श्रीभुवनेश्वर्या नामानि कथितानि ते ।இதி ஸ்ரீபு⁴வநேச்வர்யா நாமாநி கதி²தாநி தே ।सहस्राणि महादेवि फलं तेषां निगद्यते ॥ ९२॥ஸஹஸ்ராணி மஹாதே³வி ப²லம் தேஷாம் நிக³த்³யதே ॥ 92॥यः पठेत् प्रातरुत्थाय चार्द्धरात्रे तथा प्रिये ।ய: படே²த் ப்ராதருத்தா²ய சார்த்³த⁴ராத்ரே ததா² ப்ரியே ।प्रातःकाले तथा मध्ये सायाह्ने हरवल्लभे ॥ ९३॥ப்ராத:காலே ததா² மத்⁴யே ஸாயாஹ்நே ஹரவல்லபே⁴ ॥ 93॥यत्र तत्र पठित्वा च भक्त्या सिद्धिर्न संशयः ।யத்ர தத்ர படி²த்வா ச ப⁴க்த்யா ஸித்³தி⁴ர்ந ஸம்சய: ।पठेद् वा पाठयेद् वापि शृणुयाच्छ्रावयेत्तथा ॥ ९४॥படே²த்³ வா பாட²யேத்³ வாபி ச்ருணுயாச்ச்²ராவயேத்ததா² ॥ 94॥तस्य सर्वं भवेत् सत्यं मनसा यच्च वाञ्छितम् ।தஸ்ய ஸர்வம் ப⁴வேத் ஸத்யம் மநஸா யச்ச வாஞ்சி²தம் ।अष्टम्यां च चतुर्दश्यां नवम्यां वा विशेषतः ॥ ९५॥அஷ்டம்யாம் ச சதுர்த³ச்யாம் நவம்யாம் வா விசேஷத: ॥ 95॥सर्वमङ्गलसंयुक्ते सङ्क्रातौ शनिभौमयोः ।ஸர்வமங்க³ளஸம்யுக்தே ஸங்க்ராதௌ சநிபௌ⁴மயோ: ।यः पठेत् परया भक्त्या देव्या नामसहस्रकम् ॥ ९६॥ய: படே²த் பரயா ப⁴க்த்யா தே³வ்யா நாமஸஹஸ்ரகம் ॥ 96॥तस्य देहे च संस्थानं कुरुते भुवनेश्वरी ।தஸ்ய தே³ஹே ச ஸம்ஸ்தா²நம் குருதே பு⁴வநேச்வரீ ।தतस्य कार्यं भवेद् देवि अन्यथा न कथञ्चन ॥ ९७॥ஸ்ய கார்யம் ப⁴வேத்³ தே³வி அந்யதா² ந கத²ஞ்சந ॥ 97॥श्मशाने प्रान्तरे वापि शून्यागारे चतुष्पथे ।ஸ்மசானே ப்ராந்தரே வாபி சூந்யாகா³ரே சதுஷ்பதே² ।चतुष्पथे चैकलिङ्गे मेरुदेशे तथैव च ॥ ९८॥சதுஷ்பதே² சைகலிங்கே³ மேருதே³சே ததை²வ ச ॥ 98॥जलमध्ये वह्निमध्ये सङ्ग्रामे ग्रामशान्तये ।ஜலமத்⁴யே வஹ்நிமத்⁴யே ஸங்க்³ராமே க்³ராமசாந்தயே ।जपत्वा मन्त्रसहस्रं तु पठेन्नामसहस्रकम् ॥ ९९॥ஜபத்வா மந்த்ரஸஹஸ்ரம் து படே²ந்நாமஸஹஸ்ரகம் ॥ 99॥धूपदीपादिभिश्चैव बलिदानादिकैस्तथा ।தூ⁴பதீ³பாதி³பி⁴ச்சைசைவ ப³லிதா³நாதி³கைஸ்ததா² ।नानाविधैस्तथा देवि नैवेद्यैर्भुवनेश्वरीम् ॥ १००॥நாநாவிதை⁴ஸ்ததா² தே³வி நைவேத்³யைர்பு⁴வநேச்வரீம் ॥ 100॥सम्पूज्य विधिवज्जप्त्वा स्तुत्वा नामसहस्रकैः ।ஸம்பூஜ்ய விதி⁴வஜ்ஜப்த்வா ஸ்துத்வா நாமஸஹஸ்ரகை: ।अचिरात् सिद्धिमाप्नोति साधको नात्र संशयः ॥ १०१॥அசிராத் ஸித்³தி⁴மாப்நோதி ஸாத⁴கோ நாத்ர ஸம்சய: ॥ 101॥तस्य तुष्टा भवेद् देवी सर्वदा भुवनेश्वरी ।தஸ்ய துஷ்டா ப⁴வேத்³ தே³வீ ஸர்வதா³ பு⁴வநேச்வரீ ।भूर्जपत्रे समालिख्य कुङकुमाद् रक्तचन्दनैः ॥ १०२॥பூ⁴ர்ஜபத்ரே ஸமாலிக்²ய குஙகுமாத்³ ரக்தசந்த³நை: ॥ 102॥तथा गोरोचनाद्यैश्च विलिख्य साधकोत्तमः ।ததா² கோ³ரோசநாத்³யைச்ச விலிக்²ய ஸாத⁴கோத்தம: ।सुतिथौ शुभनक्षत्रे लिखित्वा दक्षिणे भुजे ॥ १०३॥ஸுதிதௌ² சுப⁴நக்ஷத்ரே லிகி²த்வா த³க்ஷிணே பு⁴ஜே ॥ 103॥धारयेत् परया भक्त्या देवीरूपेण पार्वति ! ।தா⁴ரயேத் பரயா ப⁴க்த்யா தே³வீரூபேண பார்வதி ! ।தतस्य सिद्धिर्महेशानि अचिराच्च भविष्यति ॥ १०४॥ஸ்ய ஸித்³தி⁴ர்மஹேசாநி அசிராச்ச ப⁴விஷ்யதி ॥ 104॥रणे राजकुले वाऽपि सर्वत्र विजयी भवेत् ।ரணே ராஜகுலே வாஅபி ஸர்வத்ர விஜயீ ப⁴வேத் ।देवता वशमायाति किं पुनर्मानवादयः ॥ १०५॥தே³வதா வசமாயாதி கிம் புநர்மாநவாத³ய: ॥ 105॥विद्यास्तम्भं जलस्तम्भं करोत्येव न संशयः ।வித்³யாஸ்தம்ப⁴ம் ஜலஸ்தம்ப⁴ம் கரோத்யேவ ந ஸம்சய: ।पठेद् वा पाठयेद् वाऽपि देवीभक्त्या च पार्वति ॥ १०६॥படே²த்³ வா பாட²யேத்³ வாஅபி தே³வீப⁴க்த்யா ச பார்வதி ॥ 106॥इह भुक्त्वा वरान् भोगान् कृत्वा काव्यार्थविस्तरान् ।இஹ பு⁴க்த்வா வராந் போ⁴கா³ந் க்ருʼத்வா காவ்யார்த²விஸ்தராந்अन्ते देव्या गणत्वं च साधको मुक्तिमाप्नुयात् ॥ १०७॥அந்தே தே³வ்யா க³ணத்வம் ச ஸாத⁴கோ முக்திமாப்நுயாத் ॥ 107॥प्राप्नोति देवदेवेशि सर्वार्थान्नात्र संशयः ।ப்ராப்நோதி தே³வதே³வேசீ ஸர்வார்த்தா²ந்நாத்ர ஸம்சய: ।हीनाङ्गे चातिरिक्ताङ्गे शठाय परशिष्यके ॥ १०८॥ஹீநாங்கே³ சாதிரிக்தாங்கே³ சடா²ய பரசிஷ்யகே ॥ 108॥न दातव्यं महेशानि प्राणान्तेऽपि कदाचन ।நதா³தவ்யம் மஹேசாநி ப்ராணாந்தேஅபி கதா³சந ।शिष्याय मतिशुद्धाय विनीताय महेश्वरि ॥ १०९॥சிஷ்யாய மதிசுத்³தா⁴ய விநீதாய மஹேச்வரி ॥ 109॥दातव्यः स्तवराजश्च सर्वसिद्धिप्रदो भवेत् ।தா³தவ்ய: ஸ்தவராஜச்ச ஸர்வஸித்³தி⁴ப்ரதோ³ ப⁴வேத் ।लिखित्वा धारयेद् देहे दुःखं तस्य न जायते ॥ ११०॥லிகி²த்வா தா⁴ரயேத்³ தே³ஹே து:³க²ம் தஸ்ய ந ஜாயதே ॥ 110॥य इदं भुवनेश्वर्याः स्तवराजं महेश्वरि ।ய இத³ம் பு⁴வநேச்வர்யா: ஸ்தவராஜம் மஹேச்வரி ।इति ते कथितं देवि भुवनेश्याः सहस्रकम् ॥ १११॥இதி தே கதி²தம் தே³வி பு⁴வநேச்யா: ஸஹஸ்ரகம் ॥ 111॥यस्मै कस्मै न दातव्यं विना शिष्याय पार्वति ।யஸ்மை கஸ்மை ந தா³தவ்யம் விநா சிஷ்யாய பார்வதி ।सुरतरुवरकान्तं सिद्धिसाध्यैकसेव्यंஸுரதருவரகாந்தம் ஸித்³தி⁴ஸாத்⁴யைகஸேவ்யம்यदि पठति मनुष्यो नान्यचेताः सदैव ।யதி³ பட²தி மநுஷ்யோ நாந்யசேதா: ஸதை³வ ।इह हि सकलभोगान् प्राप्य चान्ते शिवायஇஹ ஹி ஸகலபோ⁴கா³ந் ப்ராப்ய சாந்தே சிவாயव्रजति परसमीपं सर्वदा मुक्तिमन्ते ॥ ११२॥வ்ரஜதி பரஸமீபம் ஸர்வதா³ முக்திமந்த்தே ॥ 112॥इति श्रीरुद्रयामले तन्त्रे भुवनेश्वरीसहस्रनामाख्यंस्तोत्रं सम्पूर्णम् ॥ श्रीरस्तु ॥॥ இதி ஸ்ரீருத்³ரயாமலே தந்த்ரே பு⁴வநேச்வரீஸஹஸ்ரநாமாக்²யம்ஸ்தோத்ரம் ஸம்பூர்ணம் ॥ ஸ்ரீரஸ்து ॥॥

Sri Devi Khadgamala Stotram mp3 Download

Sri Devi Khadgamala Stotram

Sri Devi Khadgamala stotram is a secret Devi mantra that when translated, literally means a garland of swords. Therefore, When a devotee recites the Khadgamala stotra, he is empowered by this garland of swords. The above version has been recited by Marepalli Sri Ngavenkata Sastry.

Break Black Magic, Curses and Hexes with Powerful Hanuman Kavacham mp3 Download

In this day and age, it is very difficult to believe that black magic exists and there are people who practice it. Unless and until one becomes a victim, it is very common for people to dismiss black magic as an old wives’ tale. However, if you believe in Lord Hanuman and worship Him, no evil can do you any harm. Lord Hanuman protects you from all kinds of negative forces and keeps you secure.

The following is Ekadashamukhi Hanuman kavacham(armour) sung and recorded by Marepalli Sri Nagavenkata Sastry. You can download the mp3.

Ekadashamukhi Hanuman has eleven faces and He protects his devotees from 11 different directions. Anyone who listens to this kavacham with true faith in Hanumanji will be protected against all sorts of negativity. If one is bound within the clutches of any negative force, the fiercest form of Lord Hanuman breaks one free from such binding forces.

Ganesha Pancharathnam mp3 Download

Lord Ganesh

Ganesha Pancharathnam is a Ganesha bhajan, composed by Sri Adi Shankara Bhagawad Pada in the 8th Century and contains 5 powerful stanzas, which when recited gets us the blessings of Lord Ganesha. This mp3 was sung by Marepalli Sri Nagavenkata Sastry.

It is believed in Hinduism that Lord Ganesha must be honoured and worshipped before any other God and also that before beginning any venture one should pray to Ganesh, so that one completes the venture successfully.

Lord Ganesha Bhajan

Lalitha Sahasranama mp3 Download

Lalitha Sahasranama, is very similar to Vishnu Sahasranama as it is a garland of 1000 names addressed to Devi, Goddess Lalthambika or Bhuvaneshwari. Reciting this sahasranama for Devi gives the devotee immense peace of mind and great power over their worldly troubles. Women, who recite Lalitha Sahasranama daily with Devi in their hearts and minds will acquire a divine beauty, like Devi Herself. This is very true and I welcome all women folk to try this for at least a month and see the difference.

Lalitha Sahasranama, not only gives women external beauty but also inner peace and calm. Goddess Lalithambika blesses her children with a beauty and power similar to Her own. Like Vishnu Sahasranama, LS also has 1000 names or namas and usually takes around 30 minutes to recite. The mp3 above was sung and recorded by Mrs. Revathy Sankaran, who is a Devi upasaki (ardent devotee) herself.

Lalitha Sahasranama

Vishnu Sahasranama mp3 Download

Vishnu Sahasranama

Vishnu Sahasranama is a very powerful bhajan or stotra that addresses Lord Vishnu. It is a garland of 1000 names of Mahavishnu or Krishna. By reciting this powerful Vishnu stotra daily, you can be free from all worldly troubles. The following mp3 is the version sung by Marepalli Sri Nagavenkata Sastry.

Vishnu Sahasranama is the most powerful mantra cure for all problems. Vishnu Sahasranam is a stotra made up of 1000 names that address Lord Krishna or Vishnu Bhagwan. It forms a part of the great epic Mahabharata. If you face any problem or crisis of any nature and if you find yourself overwhelmed with the enormity of the problem, you can listen to Vishnu Sahasranama, let it play a few times with faith in Lord Vishnu. You will immediately find some sort of relief from your problems. This is so true. You can try it for yourself. Bheeshma Pithama is said to have given this garland of 1000 names, when he was on his death bed on the Kurukshetra battlefield to Yudhishtra. However, Vishnu Sahasranama is even older than that. It was composed by the greatest of Rishis of the most ancient times and handed down to the following generations through recitation. Therefore, Vishnu Sahasranama is immensely powerful.